Friday, August 28, 2009

गुज़रे लम्हे

भूल जाने की चाहत तो हर दम है मगर, दिले नादान को भूलना आता नहीं।

वक्त की स्याही से सब मिट जाता है मगर, गुज़रे लम्हों का एहसास दिल से जाता नहीं।

5 comments:

Anonymous said...

true

ஸ்வரூப் said...

wah wah wah...

Imagination said...

Swaroop- :-) :-) shukriya

Anonymous said...

lekin its too short
make it lenghty
was willing to read more but khatm ho gayee ye to
its like
pyas bhujati nahin barsaat guzar jaati hai

கவின் said...

फिने
सुपेर्ब

थौघ्त
इत
वास
लिके
तहत.